Thu. May 13th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

बिहार झारखंड

स्मृति शेष : भिखारी बन भटके थे गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण, मौत के बाद एंबुलेंस भी नसीब नहीं हुई

भोजपुर. देश ने गुरुवार को अपना महान गणितज्ञ (Mathematician) और बेटा वशिष्ठ नारायण सिंह (Vashisth Narayan Singh) खो दिया. पिछले कई दिनों से गुमनामी की जिंदगी जी रहे महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह अब हम सब के बीच नहीं हैं. उनका निधन पटना स्थित पीएमसीएच (PMCH) में आज सुबह हुआ. काल के गाल में समाने से पहले वशिष्ठ लगातार सरकारी उपेक्षा का शिकार हुए यही कारण है कि उनकी जिंदगी का एक बड़ा हिस्सा गुमनामी के दौर में छिप गया.

बता दें कि वशिष्ठ नारायण सिंह की मौत के बाद पटना के पीएमसीएच (PMCH) प्रशासन की बड़ी लापरवाही सामने आई है. वशिष्ठ बाबू के निधन पर जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने दुख जताया है और उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी. वहीं अस्पताल प्रबंधन द्वारा उनके परिजनों को पार्थिव शरीर ले जाने के लिए एंबुलेंस (Ambulance) तक नहीं मुहैया कराई गई. इस महान विभूति के निधन के बाद उनके छोटे भाई ब्लड बैंक के बाहर शव के साथ खड़े रहे.