Wed. Apr 14th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

गया : मगध प्रमंडल के कांग्रेस प्रवक्ता ने मोदी सरकार पर साधा निशाना.. कहा छ:साल में पूंजीपति हुए मालामाल

1 min read

-मोदी सरकार का छह साल देश बेहाल,पूंजीपति मालामाल -विजय मिठू

गया : गया (GAYA) अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के सदस्य सह मगध प्रमंडल कांग्रेस प्रवक्ता प्रो विजय कुमार मिठू ने कहा कि मोदी सरकार के 1.0 वाली पांच साल एवम् 2.0 वाली एक साल कुल छह साल में देश बेहाल है, तथा चंद पूंजीपति मालामाल है की संज्ञा देते हुए देशवासियों के नाम खुली चिठ्ठी लिख कर लोगो का ध्यान निम्नलिखित बिंदुओं पर आकृष्ट कराया है –

1. सन 2014 में देश के आर्थिक सुधारों के प्रणेता पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह जी की नेतृत्व वाली यू पी ए सरकार को एक सुनियोजित साजिश के तहत भाजपा, आर एस एस, चंद सोशल एक्टिविस्ट, साधु, महात्मा, एवम् सी ए जी के भ्रामक प्रचार से मोदी सरकार सत्तासीन हुई।

2. सत्तासीन होते मोदी सरकार ने देश के जिन, जिन, अहम मुद्दों को यू पी ए सरकार लाई ,एवम् जिसका गला फाड़, फाड़ कर विरोध करने वाली भाजपा ने मोदी सरकार में लागू किया जैसे जी एस टी, आधार लिंक, एफ डी आई, परमाणु कार्यक्रम आदि।

3. यू पी ए सरकार के पूरे दस साल के कार्यकाल में कच्चे तेल की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में हमेशा 100 डॉलर प्रति बैरल से ज्यादा रहा , लेकिन प्रतिदिन हजारों करोड़ नुकसान कर भी जनता को डीजल, पेट्रोल, गैस कम मूल्य में देते रही , लेकिन मोदी सरकार के छह साल के कार्यकाल में कच्चा तेल बंद बोतल पानी से भी सस्ता रहने के बाद डीजल, पेट्रोल, गैस काफी मंहगे जनता को मिल रही है, तथा अपने छह साल के कार्यकाल में 12 बार तेल पर टैक्स बढ़ा कर जनता से 20 लाख करोड़ की कमाई की।

4.राष्ट्रीय एकता आखंडता की झूठी ढोल, दिन, रात देश की जनता को पाकिस्तान का भय दिखाना, अनगिनत बिना फायदा के विदेश यात्रा, पड़ोसी देशों से संबंध खराब,आदि ।

5.तीनो सेना के चीफ के ऊपर एक नया पद बनना, राफेल सौदा में मनमानी, देश के रक्षा बजट में कटौती, छह साल में सबसे ज्यादा सैनिकों कि हत्या, पुलमावा को राजनीतिक टी आर पी के रूप में उपयोग, सर्जिकल स्ट्राइक का ढिंढोरा, सैनिकों का वेतन, मंहगाई भत्ता रोकना आदि।

6.अंबानी, अदानी सहित गुजरात के दर्जनों व्यापारियों को दिन रात फायदा पहुंचना, विजय माल्या, ललित मोदी, मेहुल चौकसी, नीरव मोदी जैसे दर्जनों पूंजीपतियों द्वारा देश का मोटा रकम लेकर विदेश भागना आदि।

7. देश के संविधान, संवैधानिक संस्थाओं से छेड़ छाड़, सी बी आई, आर बी अाई, चुनाव आयोग, सहित सभी संस्थानों को अपने गिरफ्त में रखना, सुप्रीम कोर्ट जैसे संस्थान के जजों द्वारा जनता की अदालत में न्याय मांगना, सी बी आई के निदेशक को रतो, रात हटाना, में माफिक फैसले नहीं आने पर न्यायलय के जजों का तबादला ।

8. देश के प्रमुख नौ रत्नों जैसे बी एस एन एल, एल अाई सी, एयर इंडिया, भारत पेट्रोलियम,आदि को बेचना, रेल, रक्षा, तक में अफ डी अाई आदि।

9.सी ए ए, एन आर सी, एन पी आर , धारा 370, तीन तलाक, राम मंदिर आदि मुद्दों को धार्मिक उन्माद एवम् चुनावी एजेंडा के रूप में उपयोग करना।

10. नोट बंदी जैसे ऐतिहासिक गलती, तथा इसके आड़ में संगठित लूट ने देश की आर्थिक स्थिति को पूरी तरह चौपट कर दी , रहा उससे करोड़ो लोग बेरोजगार हो गए, करोड़ छोटे , मंझोले कारोबारी बर्बाद हो गए।

11. आज कोरोनावायरस वैश्विक महामारी में आगर शुरू में देश के प्रधानमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री इसे गंभीरता पूर्वक लेते तो भारत में आज डेढ़ लाख लोग संक्रमित नहीं होते, बिना कोई तैयारी, या समय नहीं दिए बगैर लॉक डाउन लागू करने से

देश के हजारों लोगों की की मौत, पैदल, दुर्घटना, भूख, श्रमिक स्पेशल ट्रेन (Special train) आदि में हो गई, लॉक डाउन (Lock down) 1,2,3 में जब संक्रमण कम था तो पाबंदियां ज्यादा थी आज जब लॉक डाउन 4 में संक्रमण बढ़ गई तो ढिलाई देने, एवम् अब सरा ठीकरा राज्य सरकार के सर पर फोड़ने को आतुर, दो महीने से ज्यादा लॉक डाउन में करोड़ो लोग बेरोजगार, करोड़ो लघु, कारोबारियों की हालत बहुत खराब, करोड़ो प्रवासी रोजी, रोटी को बेहाल, और दूसरी तरफ सरकार द्वारा बीस लाख करोड़ का कागजी सब्जबाग दिखाने वाला बनावटी आर्थिक पैकेज, जिसका महामारी से ज्यादा प्रचार अभियान चलाने।यही है मोदी सरकार की छह साल की उपलब्धि।

रिपोर्ट : धीरज गुप्ता