Fri. May 14th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

ठंड से नवजातों को बचाएंगी आशा, करेंगी जागरुक

1 min read

गृह भ्रमण के दौरान आशा करेगीं जागरुक
– जन्म से 28 दिनों तक ठंड से ज्यादा एहतियात की जरुरत
मुजफ्फरपुर: पिछले एक दो दिनों में मौसम ने तेजी से करवट ली है। सुबह और शाम की ठिठुरन अब दिन में भी महसूस होने लगी है। ऐसे मौसम में नवजातों का विशेष ख्याल रखना चाहिए। खास कर वैसे शिशु जिन्होंने हाल में ही जन्म लिया हो। आपकी जरा सी लापरवाही बच्चे को हाइपोथर्मिया और संक्रमण के खतरों को बुलावा दे सकता है। इस परिस्थिति से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने अभी से ही आशा कार्यकर्ताओं को सचेत कर दिया है। डीसीएम राजकिरण ने कहा कि सभी आशा को निर्देशित है कि वह अपने गृह भ्रमण के दौरान नवजातों के अभिभावकों को ठंड से बचाने के तरीकों के बारे में जागरुक करेंगी।

पहले 28 दिन हैं महत्वपूर्ण
नवजात शिशुओं को जन्म के 28 दिनों तक सबसे अधिक देखभाल की आवश्यकता होती है। शिशु के शरीर का कम तापमान (सामान्य से कम) हाइपोथर्मिया (hypothermia)और संक्रमण के जोखिम को बढ़ाता है। ऐसे में शिशु के शरीर की गर्माहट बनाये रखने के लिए उसे एक बड़े साफ मुलायम सूती कपड़े से सिर से पैर तक इस प्रकार ढंका जाता है कि शिशु का सिर्फ मुंह ही खुला रहे। इस नयी विधि से ढके हुए शिशु अपना तापमान बनाये रखने में अधिक सक्षम होते हैं।

कंगारू मदर केयर जरूरी : कमजोर नवजातों की उचित देखभाल की कड़ी में ‘कंगारू मदर केयर’( ​​’Kangaroo Mother Care’ ) काफ़ी असरदार प्रक्रिया होती है। इस प्रक्रिया में मां या अन्य कोई परिवार बच्चे को छाती से चिपकाकर रखते हैं, जिससे नवजात को गर्मी मिलती है।

नतीजतन नवजात को हाइपोथर्मिया से बचाव के साथ उसके वजन में भी वृद्धि होती है। इस प्रक्रिया से बेहतर शारीरिक विकास में भी सहयोग मिलता है।

सदर अस्पताल की एसएनसीयू( SNCU) में अच्छी व्यवस्था
सदर अस्पताल के अस्पताल प्रबंधक प्रवीण कुमार ने बताया कि अगर नवजात बच्चे को किसी तरह की समस्या होती है तो मुफ्त में सदर अस्पताल के एसएनसीयू(स्पेशल न्यू बोर्न केयर यूनिट) में नि:शुल्क ईलाज की व्यवस्था है। हाइपोथर्मिया से पीड़ित बच्चों को पूरी तरह से ढंक कर लाएं। एसएनसीयू में कमवजन बच्चे सहित नवजातों के गंभीर रोगों का उपचार भी होता है।

 

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए उचित व्यवहार जरूरी
– आवश्यक होने पर हीं घर से निकलें
– हमेशा मास्क का इस्तेमाल करें
– पैकेट में सैनिटाइजर रखें
– भीड़ से अलग रहें
– बाजार में लोगों से दूर रहें , बात न करें
– बाहर किसी सामग्री को न छुएं

रिपोर्ट :अमित कुमार