Sun. Apr 11th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

नरसंहार की वारदातों से थर्राया मुहम्मदपुर

1 min read

मधुबनी : सूबे में अपराधों की ग्राफों की अगर बात करें तो बहुत हद से ज्यादा बढ़ गया है । जिससे आम लोग अपने आप को सुरक्षित रख पाने में मुश्किलों का सामना कर रहे हैं । हर एक आम नागरिक अब खुद को असुरक्षित महसूसकर रहे हैं , भय के साये में जीने को विवश है और सरकार व प्रशासन नपुंसकता दिखाने में लगी हुई है । जी हां अब नरसंहार की घटनाएं काफी तेजी से बढ़ती जा रही है । क्योंकि अपराधियों के हौसले इतने बुलंद हो चुके है कि सरकार और प्रशासन भी लाचार है।

मधुबनी जिले में भी नरसंहारों की वारदातें खूब होने लगी है । हर एक दिन आम लोगों को मौत के घात उतारा जा रहा है । जिले में खासकर के यह तीसरी ऐसी नरसंहार की वारदात है । जिसमें एक साथ आधा दर्जन लोगों को गोलियों से छलनी कर के मौत की नींद सुला दिया जाता है । बेनीपट्टी के मुहम्मदपुर गाँव में होली के दिन एक तालाब के विवाद को लेकर अपराधियों की वारदातें का नजारा देखने को मिला था । जिसमें एक ही परिवार के छः लोगों को गोलियों से भुन डाला और फरार हो गया । मुहम्मदपुर गाँव के पड़ोसी गाँव गैवीपुर के रहने वाले अपराधी प्रवीण झा जो अपने 35 साथियों के साथ एके 47 हथियारों के साथ आया और राणा प्रताप सिंह के घर में घुसकर ताबड़तोड़ फायरिंग किया । उस फायरिंग में तीन लोगों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई थी । उसके बाद तीन लोग बुरी तरह से गंभीर रूप से घायल हुए थे । जिसके बाद उसमें भी दो और लोगों की मौतें हो चुकी है ,अब उस नरसंहारों में पूरे पांच लोगों की अभी तक हत्या की जा चुकी है

मुहम्मदपुर गाँव में नरसंहारों के बाद राजनेताओं का दौरा करना शुरू हो गया है । हर एक दिन हर पार्टी के नेताओं का आना जाना हो रहा है । इसी कड़ी में हरलाखी के विधायक सुधांशू शेखर भी घटना के चार दिन बाद पहुंचे । जिसके बाद परिजनों ने रो रो कर अपना दुःखड़ा सुनाया । जहां पुलिस प्रशासन लेकर प्रशिक्षु एसडीपीओ भी मौजूद थे और वे अपनी नपुंसकता दिखाने में लगे थे । जबकि परिजनों के द्वारा बार बार बेनीपट्टी के भाजपा विधायक विनोद नारायण झा का नाम बताया जा रहा था । फिर भी पुलिस ने इस ओर ध्यान नहीं दिया है । ऐसा पीड़ित परिवार का कहना है वहीं जदयू विधायक
सुधांशु शेखर ने भी पीड़ित परिवार से मुलाकात कर कार्रवाई का भरोसा दिया है। जबकि राजद विधायक चेतन आनंद ने भी दौरा कर परिजनों से मुलाकात की और घटना के लिए जिम्मेदार लोगों पर त्वरित कार्रवाई नकिए जाने पर अपनी नाराज़गी ज़ाहिर की और स्थानीय राजनेता की संलिप्तता की भी आशंका व्यक्त की । वहीं सरकार में मंत्री नीरज कुमार बबलू ने भी पीड़ितों से मुलाकात कर कार्रवाई का भरोसा जरुर दिलाया है।
वहीं सुस्त पुलिसिया कार्रवाई से लोगों ने प्रश्न उठाना शुरू कर दिया है कि
कहा जाता है कि नीतीश कुमार के शासनकाल में हर एक अपराधियों के ऊपर शिकंजा कसा जाता है । लेकिन मुहम्मदपुर गाँव में जो नरसंहार की वारदातें को अंजाम दिया गया है । उसमें अभी तक क्यों नही मुख्य आरोपी प्रवीण झा और उनके संरक्षक भाजपा विधायक विनोद नारायण झा के ऊपर किसी भी प्रकार की करवाई की गयी।
पुलिस प्रशासन ने सिर्फ 35 लोगों पर नामज़द एफआईआर और दस अज्ञात लोगों पर किया है जिसमें से अभी तक सिर्फ आठ लोगों को ही पुलिस गिरफ्तार करके जेल भेज चुकी है ,बाकी के सभी अपराधी अभी भी फरार है और मृतकों के रिश्तेदारों को हत्या करने की धमकी दे रहे हैं ।

रिपोर्ट : आलोक कुमार