Thu. Apr 15th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

मुजफ्फरपुर : वल्ड फूड प्रोग्राम और डब्ल्यू एच ओ की ओर से बताए गये टिप्स.. होम क्वारेंटाइन के दौरान वसा,चीनी और आयल को करें नजरअंदाज

1 min read

मुजफ्फरपुर 20 मई : कोरोना वायरस से बचने के लिए लोगों ने खुद को होम क्वारंटाइन किया हुआ है। ऐसे में लोगों के पास एक ही विकल्प है घर का बना खाना। वहीं चिकित्सकों का कहना है कि कोरोना से बचाव आपका इम्युन सिस्टम ही कर सकता है। पर घर में रहने पर लोगों की रुचि उन चीजों में ज्यादा बढ़ जाती है, जो स्वास्थ्य और हमारे रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए विरोधाभास पैदा करता है। कुछ लोग यह सोचकर परेशान हैं कि वह क्या खाएं और क्या नहीं। इसके मद्देनजर डब्ल्यूएचओ ने होम क्वारंटाइन के दौरान लोगों के खाने पीने को लेकर कुछ सलाह कुछ पोस्टरों के माध्यम से दी है। इसमें उहोंने बताया है कि लोगों को खाने मे किस चीज का इस्तेमाल करना है और क्या नहीं।

आहार में विविधिता जरुरी है :

डब्ल्यूएचओ ने अपने पोस्टर के माध्यम से बताया है कि रोजाना विभिन्न तरह के खाद्द पदार्थ खाने से अनेक प्रकार के विटामिन और मिनरल हमारे शरीर को प्राप्त होते हैं। वहीं भोजन में फल और सब्जी को शामिल करने से हमारा इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है। विभिन्न प्रकार के पोषक तत्व मिलने से शरीर में एंटी बॉडी का निर्माण होता है।

खाने में चीनी की मात्रा कम करें:

वर्ल्ड फूड प्रोग्राम और डब्ल्यूएचओ के अनुसार ज्यादा मात्रा में चीनी और उसकी मात्रा वाले पेय पदार्थ हमारे खून में शर्करा का स्तर बढ़ा देता है।जिससे सफेद रक्त कोशिकाओं का निर्माण कम होता है। कई शोधों के अनुसार ब्लड शुगर का थोड़ा सा बढ़ना भी संक्रमण और उससे होने वाले खतरे को बढ़ा देता है। देखा गया है कि दो चम्म्च चीनी अगले दो घंटे के लिए 50 फिसदी तक कम कर देता है। अगर कोई दिन भर में कई बार चाय, कॉफी या मीठी चीज खाता है तो इम्यून सिस्टम का खतरा बढ़ जाता है।

वसा और तेल का कम करें सेवन:
डब्ल्यूएचओ ने अपने पोस्टर में यह भी बताय है कि हमें मध्यम रुप में ही वसा और तेल का उपयोग करना चाहिए। वहीं हमें प्रोटीन के अन्य माध्यमों को अपने जीवन मे शामिल करना चाहिए। प्रोटीन रक्त , त्वचा, मांसपेशियों और बोन के कोशिकाओं के विकास के लिए जरुरी है। ये हमारे शरीर मे उत्तकों की मरम्मत भी करते हैं। जिससे प्राकृतिक रुपसे हमारे शरीर में एंटीबॉडी का निर्माण होता है। जो कोरोना के संक्रमण से लड़ने में मदद दिलाता है।

                                       रिपोर्ट : अमित कुमार