Sun. Apr 11th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

नालंदा : कोरोना को लेकर अतिपिछड़ा दलित संघर्ष मोर्चा चलाएगा जागरुकता अभियान.. कहा हाशिये पर हैं इस समाज के लोग

2 min read

हाशिए पर है अतिपिछड़ा और दलित समाज के लोग

* कोरोना के प्रति गांव – गांव में चलेगा जागरूकता अभियान।

नालंदा (बिहार) : अतिपिछड़ा दलित संघर्ष मोर्चा नालंदा (Front nalanda) के बैनर (Banner) तले बिहार शरीफ (Bihar Sharif) के प्रज्ञा उत्सव हॉल (Pragya Utsav Hall) में सोशल डिस्टेंस (Social distance) का पालन करते हुए एकदिवसीय चिंतन बैठक (Miting) किया गया।बैठक की अध्यक्षता मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष बलराम दास ने की।मोर्चा के नेताओ ने कहा कि
सभी राजनीतिक दलों ने ठगने का काम किया है जिसके कारण यह समाज दर- दर की ठोकरें खाने को मजबुर है ।अतिपिछड़ा समाज की आबादी 40%और दलित 22% है ।कुल मिलाकर 62%आबादी है ।बैठक में मोर्चा के लक्ष्य और उद्देश्य पर विस्तारपूर्वक चर्चा करते हुए कहा कि यह मोर्चा अतिपिछड़ा और दलित समाज के हितों की रक्षा हेतु सदैव तत्पर रहा है।बैठक की समीक्षा करते हुए कहा कि पूरे जिले में यह संगठन काफी मजबूत पकड़ बना चुका है। बैठक का मुख्य एजेंडा नालंदा में अतिपिछड़ी और दलित जातियो का राजनैतिक रूप से हाशिए पर होना रहा।
आजादी के 72 वर्ष बाद भी बिहार में अतिपिछड़े और दलित समाज के लोग हाशिए पर है जो घोर अन्याय है।यह समाज सामाजिक ,आर्थिक और राजनीतिक रूप से काफी पीछे है।अगर नालंदा की बात करे तो वर्षों से सिर्फ एक ही जाति का राजनीति में दबदबा कायम है।लंबे समय से अतिपिछड़ी जातियों का कोई भी प्रतिनिधि विधायक या सांसद नहीं हुआ है।अतिपिछड़े और दलितों के वोट बैंक को तोड़ने के लिए ही अलग अलग पार्टी बनाई जाती है। नेताओ ने आग्रह किया की 62% लोगों की चट्टानी एकता से ही समाज का कायाकल्प संभव है।इस बार चुनाव में 62% आबादी वाला समाज करारा जवाब देगा।ये बाते अतिपिछड़ा दलित संघर्ष मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष बलराम दास ने कही।
वक्ताओं ने कहा कि
इस विधान सभा चुनाव में सबक सिखाने के लिए दलित ,अतिपिछड़े समाज के लोग पूर्ण रूप से तैयार है ।
नंदलाल राम एवम् राकेश बिहारी शर्मा ने शिक्षा के महत्व पर प्रकाश डाला ।और कहा कि इस समाज के लोग शिक्षा के बदौलत ही आगे बढ़ सकते है।और हर क्षेत्र में विकास होगा। कोरोना के प्रति जागरूकता अभियान चलाया जायेगा।
मुसाफिर दास ने कहा कि नया रिसर्च के अनुसार पहले उच्च वर्ग के लोग शोषण करते थे लेकिन विगत 30 बर्षो से दबंग पिछड़ी जातियों ने सामाजिक ,राजनैतिक और आर्थिक रूप से शोषण किया है। और 62% जाति को सत्ता से बेदखल कर रखा है।लेकिन इस समाज के लोग जाग चुके है।
चिंतन बैठक में अवधेश पंडित, दिलीप कुमार मंडल ,राकेश बिहारी शर्मा ,रंजीत कुमार चौधरी, नंदलाल राम, राजेश ठाकुर ,रामदेव चौधरी ,मुसाफिर दास समेत दर्जनों लोग उपस्थित हुए।

रिपोर्ट : गौरी शंकर प्रसाद