Wed. Apr 14th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

नालंदा : कृषि वैज्ञानिक ने बताए पौधे तैयार करने के टिप्स, घर मैं ही नर्सरी बना बढ़ा सकते हैं आमदनी

2 min read

नालंदा (बिहार) हरनौत : कृषि विज्ञान केंद्र (Agricultural Science Center) के तकनीकी कक्ष में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (video conferencing) के माध्यम से बागवानी विशेषज्ञ डॉक्टर विभा रानी ने जिले के किसानों को आम अमरूद और नींबू के पौधे तैयार करने के टिप्स बताए (Dr. Vibha Rani told the farmers of the district how to prepare mango and guava plants.)। कहा कि पौधे तैयार करने का गुर सीखकर लोग आत्मनिर्भर बन सकते हैं।


पौधों की नर्सरी वर्तमान में काफी प्रासंगिक है।
डॉ विभा ने बताया कि अमरुद व नींबू के पेड़ में पहले पेंसिल आकार का तना चिन्हित कर लें। उसका रंग भूरा होना चाहिए। आप उसके आगे के सिरे को छील दें। इसके बाद उसपर मिट्टी का लेप चढ़ा दें। उस सिरे को आर-पार नजर आने वाले पारदर्शी पॉलीथिन से कवर कर दें। करीब दो माह के अंतराल के दौरान कवर किये गये मिट्टी का लेप चढ़े भाग से रेशे निकलते दिखाई दें तो समझ जाइये की जड़ विकसित हो रहा है। तब टहनी से तने के उस भाग को काटकर हटा लें।
फिर उसे हल्की भुरभुरी मिट्टी में रोप सकते हैं। अगर मिट्टी कड़ी हो तो उसमें बालू मिलाकर उस तने को विकसित हो रहे जड़ की ओर से मिट्टी में रोप दें। इससे तैयार पौधे कलमी पौधे कहलाते हैं।
इसी तरह आम के नये पौधे तैयार करने में पहले बीजू पौधा तैयार करना पड़ता है। इसमें आपको करीब एक वर्ष पहले किसी भी आम की गुठली बीज के रुप में लगानी होगी। उसमें जब पौधा शैशवावस्था में हो तो उसके पहले हम जिस प्रभेद का आम लेना चाहते हैं, उस प्रजाति के पेड़ में से पेंसिल नुमा तना चिन्हित करेंगे।
उस तने में लगी पत्तियों को हटा दें। करीब सात-आठ दिन के बाद जब पत्तियों के हटने से डंठल मुरझाने लगे, उस समय आप उसे को टहनी से अलग कर लें। इसके बाद उसके एक सिरे को वी आकार में कर लें।
इधर तैयार बीजू पौधे का तना मध्य से काट लें। फिर बीजू पौधे के कटे तने में बीच से चीरा लगाकर उसमें वी आकार बने तने के हिस्से को उसमें लगा दें।
कुछ समय बाद जब तने में नई पत्तियाँ आने लगे तो समझें कि आपका पौधा तैयार है।
इस तरीके को पौधा प्रवर्धन भी कहते हैं। इससे फायदा यह है कि आप किसी भी बीजू पौधे के माध्यम से मनचाहे प्रभेद का पौधा तैयार कर सकते हैं।
कृषि वैज्ञानिक ने बताया कि ऑनलाइन ट्रेनिंग के माध्यम से पूरे जिले के 16 किसानों को पौधा तैयार करने की विधि बताई गई।

रिपोर्ट : गौरी शंकर प्रसाद