Thu. May 13th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

नालंदा : सीएम ने पुलिस, स्वास्थ्य कर्मी,प्रशासन और जनप्रतिनिधियों से मांगा सहयोग, कहा अब ज्यादा सर्तक रहने की है जरूरत

2 min read

लॉकडाउन खत्म होने से रिस्क बढ़ा …

* वीसी के माध्यम से सीएम ने पुलिस-प्रशासन, स्वास्थ्य कर्मियों व जनप्रतिनिधियों से सहयोग मांगा

नालंदा (बिहार) हरनौत : (Nalanda) लॉकडाउन-4 खत्म (Lockdown-4 finish) होने के बाद अनलॉक-1 (Unlock after – 1) प्रगति में है। आर्थिक गतिविधि बढ़ने से अब लोगों का आवागमन आसान हो गया है। ऐसे में कोरोना संक्रमण (Corona infection) का रिस्क बढ़ गया है। नतीजतन अब लोगों को खुद सावधानियां बरतनी होंगी। मामूली चूक से हम गंभीर संकट में पड़ सकते हैं। ये बातें बीडीओ रवि कुमार ने कही। इसके पहले कोरोनाबंदी के बाद की स्थिति पर चर्चा के लिये मुख्यमंत्री नीतीश कुमार वीडियो कांफ्रेंसिंग (Nitish Kumar Video Conferencing) से पुलिस-प्रशासन, स्वास्थ्य (Health) कर्मियों और जनप्रतिनिधियों से रुबरु हुये।
थानाध्यक्ष चंद्रशेखर सिंह ने कहा कि आर्थिक गतिविधियों को लेकर कुछ छूट जरुर मिली है। पर, लोग इसका गलत फायदा नहीं उठायें। दुकानों पर सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए मास्क लगाना अनिवार्य है।
सीओ अखिलेश चौधरी ने कहा कि खासकर कपड़े की दुकान में संक्रमण का खतरा ज्यादा है। वहां ग्राहकों को कपड़ा दिखाने से पहले हाथ व दुकान का सैनिटाइजेशन (Sanitization) जरुरी है। नियमों का उल्लंघन करने पर दुकानदार के साथ ग्राहकों को भी दंड भुगतना पड़ सकता है।
प्रभारी डॉ राजीव रंजन सिन्हा ने कहा कि वर्तमान समय में प्रत्येक व्यक्ति को संदिग्ध मानकर उनसे दूरी बनाकर चलें। मास्क जरुर पहनें। खांसी-सर्दी-बुखार के साथ गले या छाती में परेशानी हो तो तत्काल इसकी सुचना स्थानीय स्वास्थ्य कर्मियों के माध्यम से अस्पताल को दें।
पंचायत प्रतिनिधियों से भी ग्रामीण क्षेत्र में अपने स्तर से जागरुकता बढ़ाने की बात कही गई।
इस दौरान सीडीपीओ (CDPO) जया मिश्रा, तेलमर थानाध्यक्ष जितेंद्र कुमार, चेरो ओपी प्रभारी उमाशंकर मिश्रा, कल्याणबिगहा ओपी के कामेश्वर सिंह, मुखिया रणविजय पटेल, घनश्याम सिंह, हेमलता सिन्हा, पुर्व प्रमुख चंद्रजीत कुमार सेन, डॉ राकेश रंजन, जयराम सिंह, राजेश कुमार,व अन्य मौजूद थे।

                                                                                                 रिपोर्ट : गौरी शंकर प्रसाद