Fri. May 14th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

नालंदा : अंबेडकर आवासीय विद्यालय मेंअब प्लस टू तक की होगी पढ़ाई.. किया जाएगा दूसरी जगह शिफ्ट

1 min read

बिरजुमिल्की-चखाविंद में शिफ्ट हो सकता है मुढ़ारी स्कूल

* प्लस टू तक मिली मान्यता
* पांच एकड़ बनना है स्कूल परिसर

नालंदा (बिहार) : हरनौत मुढ़ारी (Harnaut Mudhari) में स्थापित डॉ भीमराव अंबेदकर (Ambedkar) आवासीय अनुसूचित जाति उच्च विद्यालय (school) में अब छात्रों को प्लस टू तक की शिक्षा मिलेगी। हालांकि, इसके लिए जगह का अभाव देखते हुये इसे अन्य जगह पर शिफ्ट करने की योजना पर काम शुरु हो गया है। इसके लिये सीओ अखिलेश चौधरी के नेतृत्व में जिला कल्याण पदाधिकारी सुशील कुमार सिन्हा ने बिरजुमिल्की-चखाविंद टोला के निकट संभावित स्थल का मुआयना किया। विद्यालय के लिये कुल पांच एकड़ जमीन की आवश्यकता होगी।
जिला कल्याण पदाधिकारी ने बताया कि प्लस टू तक विद्यालय में शिक्षण कार्य के विस्तार के लिये संबंधित संसाधनों के विकास को और जगह की जरुरत थी। पर, मुढ़ारी में और जमीन नहीं मिल सकी।
सीओ अखिलेश चौधरी ने बताया कि इतनी सरकारी जमीन अंचल में एक साथ उपलब्ध नहीं थी। जमीन की खोज के दौरान डिहरी मौजा के बिरजुमिल्की-चखाविंद टोला में ग्रामीणों ने सही कीमत मिलने पर जमीन देने पर सहमति दी है। इसी के आलोक में आज डीडब्ल्युओ ने जमीन का मुआयना किया। उन्होंने बताया कि जमीन देने के इच्छुक ग्रामीणों के जमीन का प्रस्ताव बनाकर डीएम के माध्यम से सरकार को जायेगा। वहां से हरी झंडी मिलते ही जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया आगे बढ़ेगी।
इस दौरान राजस्व कर्मचारी प्रमोद कुमार व सरकारी अमीन अनवर अली भी थे। जबकि जमीन देने को इच्छुक ग्रामीणों में रौशन रंजन सिंह, ललन सिंह, सतीश सिंह, आरजी सिंह व इंद्रजीत सिंह भी मौजूद थे।

:: मिलेगी साइंस, आर्ट्स व कॉमर्स फैकल्टी की सुविधा

डीडब्ल्युओ सुशील कुमार सिन्हा ने बताया कि अभी स्कूल में पहली से लेकर दसवीं कक्षा तक की पढ़ाई होती है। प्रत्येक वर्ग में 40 छात्र के हिसाब से कुल 400 छात्र हैं।
जबकि, प्लस टू तक क्लास बढ़ने से 120 छात्र बढ़कर कुल छात्र 520 हो जायेंगे। क्योंकि, प्लस टू में यहां साइंस, आर्ट्स और कॉमर्स की फैकल्टी होगी। प्रत्येक फैकल्टी में 40 छात्र होंगे।
उन्होंने बताया कि नीचे की कक्षा में छात्रों की संख्या को देखते हुए प्लस टू में संबंधित फैकल्टी में सीटें खाली रहने से प्राथमिकता के आधार पर बाहर के भी अनुसूचित जाति के छात्रों को प्रवेश का मौका मिलेगा।

:: होंगे अपने भवन, खेल का मैदान भी

डीडब्ल्युओ सुशील कुमार सिन्हा ने बताया कि वर्तमान में मुढ़ारी स्थित स्कूल में जगह की कमी है। इस वजह से वहां छात्रावास और शिक्षण कक्ष को किसी तरह मेंटेन किया जाता है। शिक्षकों को आसपास किराये के मकान में रहना पड़ता है।
यदि नये स्थान पर सहमति बनी तो छात्रावास, क्लासरूम, शिक्षक व शिक्षाकर्मियों के आवास का अपना भवन होगा। साथ ही खेलकूद के लिए भी जगह मिलेगी, जिसका अभी काफी अभाव दिखता है।

रिपोर्ट : गौरी शंकर प्रसाद