Tue. May 11th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

नालंदा : क्वारेंटाइन केन्द्र में प्रवासी बेवजह कर रहे अधिकारियों को परेशान.. मोबाईल पर डाल रहे गलत मैसेज

1 min read

नालंदा (बिहार) : हरनौत प्रखंड में प्रवासियों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इससे क्वारंटीन सेंटर की संख्या भी बढ़कर तेरह हो गई है। इसके अलावा भी सेंटर के लिये भवन को अफसर लगातार क्षेत्र का भ्रमण कर रहे हैं। इस बीच अक्सर क्वारंटीन सेंटर से प्रवासियों के द्वारा कई प्रकार के मैसेज संबंधित ग्रुप में शेयर किये जाते हैं। अफसर आनन-फानन में वहां पहुंचते हैं। पर, वहां भौतिक सत्यापन करने पर माजरा कुछ और मिलता है। नतीजतन अफसरों की परेशानी बढ़ जाती है।
प्रभारी डॉ राजीव रंजन सिन्हा ने बताया कि जीडीएम कॉलेज से मैसेज आया कि एक मरीज की तबियत बहुत बिगड़ी है। वहां जाने पर पता लगा कि उसे वहां रहने में दिक्कत हो रही है।
इसी तरह रामकृपाल सिंह बीएड कॉलेज से मैसेज आया कि एक साथ कई मरीजों की हालत खराब है। तत्काल एंबुलेंस भेजा जाय। वहां जाने पर सर्दी-जुकाम की दवा मांगी गई।
सिर्फ यही नहीं, आधी रात के बाद दिल्ली से किसी तरह हरनौत आये प्रवासी को थर्मल स्क्रीनिंग के बाद क्वारंटीन के लिये रोका गया। वह मौका देखकर अपने गांव लोहरा भाग गया। अब वहां से उसे लाने के लिये एंबुलेंस और खाने के लिये भोजन की मांग मोबाइल पर की जा रही है।
इसी तरह मिरदाहाचक का एक ग्रामीण मुंबई से लौटा। उसमें कोरोना के कोई लक्षण नहीं थे। पर, उसे हृदय संबंधी अन्य रोग थे। क्वारंटीन के लिये रोका गया तो उसे होम क्वारंटीन रहने की बात कह परिवार वाले ले गये। वहां पुरानी बीमारी उठने के कारण उसकी स्थिति गंभीर हो गई। ग्रामीणों ने कोरोना की अफवाह फैलाकर डीएम ऑफिस में सुचना कर दी। हालांकि तब तक मरीज को एंबुलेंस से मंगवाकर सदर अस्पताल रेफर किया गया है।

रिपोर्ट : गौरी शंकर प्रसाद