Fri. May 14th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

पाकुड़ : सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में बाल मजदूरी कानून की की जा रही अवहेलना.. बिरसा हरित ग्राम योजना में बाल मजदूरों से कराया जा रहा है काम

1 min read

पाकुड़ : (Pakur) महेशपुर प्रखंड (Maheshpur block) के जयपुरवरूगां पंचायत अंतर्गत भीमपुर गांव में बिरसा हरित ग्राम योजना में बाल मजदूर काम करने का मामला प्रकाश में आया है । बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत भुईघरा गांव के ही कुरबान शेख के एक एकड़ जमीन पर 112 आम का पोधा रोपन कार्य शुरू किया गया है। जिसका योजना संख्या – (3414005018/IF/7080901428026) है । जिसका वित्तीय वर्ष 2020-2021 । योजन् कार्य की प्रकालित राशि 3 लाख 59 हजार85 रुपये है । इस योजना कार्य में मनरेगा मजदूर से काम पुरा किया जाना है । परन्तु बिचोलिया कार्य में अनियमितता बरतते हुए योजना कार्य को जैसे तैसे पुरा करने के लिए बाल मजदूर को भी काम पर लगा दिया गया है। मनरेगा योजना में काम कर रहे बाल मजदूर केमिम शेख उम्र( लगभग 14 साल ) से पुछताछ में खुद स्वीकार किया है वे योजना में कार्य करते है और पानी ढोने का काम भी उन्ही से करवाया जाता है । जिससे कई सवाल खड़े हो रही है ।

बाल श्रम के लिए क्या है नियम

बाल श्रम (निषेध व नियमन) कानून 1986- यह कानून 14 वर्ष से कम उम्र के बच्चों से मजदूरी कराना कानूनी अपराध है।

पाकुड़ श्रम अधीक्षक रंजीत कुमार ने साफ साफ लफ्जो में कहाँ की अगर बाल श्रम कराना कानूनी अपराध है,अगर ऐसी लापरवाही बरती गयी है तो इस संबंधी जाँच कर उचित कार्रवाई की जाएगी.

रिपोर्ट : नंद किशोर मंडल