Sun. Apr 11th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

‘टीबी हारेगा देश जीतेगा’अभियान को सफल करने का लिया संकल्प

1 min read

टीबी मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा के लिए विभाग सजग

शिवहर : मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराने के लिए विभाग सजग है। मुफ्त इलाज के साथ उन्हें आर्थिक मदद भी की जा रही है। सरकार ने 2025 तक देश को टीबी रोग से मुक्त करने का लक्ष्य रखा है। इसके तहत शिवहर जिला में टीबी जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। ‘टीबी हारेगा देश जीतेगा’ अभियान के तहत मंगलवार को शिवहर और पुरनहिया पीएचसी में जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए गए। जिसमें सामुदायिक कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता, एएनएम आदि को टीबी रोगियों को दी जाने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं को बताया गया। इस मौके पर पुरनहिया पीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ त्रिलोकी शर्मा, प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक सुजीत कुमार, मुकेश कुमार, सुधांशु शेखर रौशन, संजीव कुमार, नीलू कुमारी, सचिन कुमार, नवीन कुमार मिश्रा आदि उपस्थित थे।

निक्षय-2 पोर्टल से मिल रही सुविधा
जिला संचारी रोग पदाधिकारी डॉ. जियाउद्दीन जावेद ने कहा कि निक्षय-2 पोर्टल में मरीजों का नाम जोड़ने के बाद टीबी रोगियों को सात अंकों की एक डिजिटल आइडी मिल रही है। इससे मरीजों का पता लगाने में विभाग को काफी सुविधा हो रही है। इससे विभाग को यह भी पता चल रहा है कि मरीज समय पर दवा लिया या नहीं। इसके अलावा इस आइडी के जारी होने के बाद रोगी देश में कहीं से भी अपना दवा ले सकेंगे।

नए मरीजों की हो रही खोज
डॉ. जियाउद्दीन जावेद ने कहा कि जिले में नए टीबी मरीजों की खोज की जा रही है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग सजग है। सदर अस्पताल से लेकर अन्य स्वास्थ्य केंद्रों में शिविर लगाकर लोगों की जांच की जा रही है। अगर जांच में टीबी रोग के लक्षण पाएं जाते हैं तो इसका इलाज शुरु किया जाता है। साथ ही उसकी पूरी जानकारी निक्षय-2 पोर्टल पर दी जाती है।

निक्षय पोषण योजना के तहत मिल रहे 500 रुपये
टीबी के मरीजों को उचित खुराक उपलब्ध कराने के लिए केंद्र सरकार की तरफ से निक्षय पोषण योजना चलायी गयी है। जिसमें टीबी के मरीजों को उचित पोषण के लिए 500 रुपये प्रत्येक महीने दिए जाते हैं। यह राशि उनके खाते में सीधे पहुंचती है।

एमडीआर टीबी (MDR TB) हो सकता है गंभीर, रहें सर्तक
डॉ. जियाउद्दीन जावेद ने बताया एमडीआर टीबी होने पर सामान्य टीबी की कई दवाएं एक साथ प्रतिरोधी हो जाती हैं। टीबी की दवाओं का सही से कोर्स नहीं करने एवं बिना चिकित्सक की सलाह पर टीबी की दवाएं खाने से ही सामान्यता एमडीआर-टीबी होने की संभावना बढ़ जाती है। उन्होंने बताया शिवहर जिले में टीबी रोगियों के लिए चलाई जा रही इस योजना के तहत 210 मरीजों का इलाज चल रहा है।

रिपोर्ट : अमित कुमार