Tue. Apr 20th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

सीतामढ़ी : कोरोना वारियर्स को दीक्षा प्लेटफार्म पर मिला प्रशिक्षण ..विभिन्न मेडिकल टूल्स की दी गई जानकारी

1 min read

सीतामढ़ी 5 मई  : कोरोना वायरस की रोकथाम और उपचार में लगे पारामेडिकल स्टाफ को मंगलवार को सदर अस्पताल में प्रशिक्षण दिया गया। इस प्रशिक्षण का मकसद कोरोना के संक्रमण की रोकथााम और उपचार में लगे पारामेडिकल स्टाफ के व्यक्तिगत क्षमताओं का विकास करना था। यह कोर्स जिन पेशेवरों के लिए इस्तेमाल किया गया है उनमें डाॅक्टर नर्स एवं अन्य पारामेडिकल स्टफ, साफ- सफाई में लगे लोग ,टेक्निशियनों और आशा जैसे स्वास्थ्यकर्मियों के लिए किया गया है। अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डाॅ सुरेन्द्र कुमार चौधरी ने कहा कि इस प्रशिक्षण का मकसद कोरोना वायरस से पीड़ित मरीज का इलाज करने के दौरान सैंपल लेने , फैलने से रोकने के साथ ही अन्य सावधानियों को लेकर इस प्रशिक्षण में पारामेडिकल स्टाफ खास कर नर्स को यह प्रशिक्षण दिया गया है। इसके बाद यह प्रशिक्षण प्रखंड स्तर पर भी दिया जाएगा। यह प्रशिक्षण केयर के तकनीकी प्रशिक्षक डाॅ मेंहदी हसन और नर्स मेंटर सुपरवाइजर के द्वारा दिया गया। डाॅ मेंहदी हसन ने बताया कि कोरोना संक्रमित या संदिगध के सैंपल लेने वक्त उन्हें सचेत रहना होगा। सावधानी बरतने से ही बचाव संभव है। कोरोना वायरस की जानकारी देते हुए कहा कि इसके लक्षणों में पीड़ित मरीज को जुकाम के साथ बुखार, गले में खराश, नाक बहना या सांस लेने में तकलीफ होती है। वहीं अगर किसी को यह लक्षण नहीं है और वह संक्रमित के संपर्क में आया हो फिर भी उन्हें सावधानी बरतनी होगी। इसके लिए हरेक को बार बार साबुनसे हाथ धोने, खांसते या छींकते वक्त मुंह पर रुमाल रखने को कहा । यह कोई बड़ी बीमारी नहीं है लेकिन लापरवाही बरतने पर जानलेवा साबित हो सकती हैं

पीपीई किट पहनने की दी जानकारी

प्रशिक्षण के दौरान पारामेडिकल स्टाॅफ कैसे किट पहनें कि वह संक्रमित नहीं हो इसकी जानकारी भी जानकारी दी गई। इसमें बताया गया कि पीपीई किट पहनते वक्त यह हमेंशा याद रखें कि सबसे पहने हम दस्ताने को पहनें। तभी संक्रमण मुक्त रह सकते हैं। मेडिकल स्टाॅफ को यह देखने की जरुरत है कि किस तरह के पीपीई किट की उसे जरुरत है। फिर उसे कैसे पहनना है , एडजस्ट करना है। फिर उसे इस्तेमाल के बाद सही तरीके से कचरे में फेंकना भी ताकि उससे आगे किसी को संक्रमण न हो। प्रशिक्षण के दौरान पीपीई किट और समुदाय के बीच सैंपल लेने और फील्ड के तौर -तरीकों को भी बताया गया।

रिपोर्ट : अमित कुमार