Wed. Apr 14th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

सुपौल : त्रिवेणीगंज पुलिस द्वारा खुलेआम घूस लेने की घटना पर डीजीपी ने लिया संज्ञान… पीड़ित से मांगा साक्ष्य

2 min read

बिहार (सुपौल) : सुपौल (Supaul) अपने काले कुकृत्य के लिए चर्चित त्रिवेणीगंज पुलिस (police) एक बार फिर दवा दुकानदार (Drug dealer) से खुलेआम 25 हजार घुस लेने के मामले को ले सुर्खियों में है।जहां थानेदार (Sho) ने गोलीबारी (Shootout) के शिकार एक दवा दुकानदार को ही हाजत में बंद कर छोड़ने के एवज में 25 हजार लिए। लेकिन डीजीपी (DGP) के आदेश के बाबजूद जिले की पुलिस अपने सुधार के बजाय पीड़ित व्यक्ति को ही प्रताड़ित कर बेखौफ हो कर घूसखोरी में लगी है।मामला त्रिवेणीगंज थाना से जुड़ा हुआ है।जहां बेखोफ थानेदार ने पहले अपराधी के गोलीबारी से घायल दवा दुकानदार को ही पिटाई कर हाजत में बंद कर दिया। बाद में परिजनों के विनती पर 25 हजार रुपये में मुक्त किया।वेशर्मी की हद तो तबहो गई जब थानेदार ने पुलिस जीप में पीड़ित को बैठाकर अपने जीप चालक रवींद्र साह से तड़के लगभग 4 बजे उनके घर भेजकर दुकान खुलवा कर पैसे लिए। संयोग से दुकान में महज 15 हजार रुपये थे।चालक वह रुपये लेकर इस हिदायत के साथ वापस लौटा कि बची रकम सुबह पहुंचा दो। दुकान खुलवाकर रुपये लेने की सारी बारदात दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरा में कैद हो गई है।पीड़ित दवा दुकानदार ने मामले की शिकायत डीजीपी से की है। डीजीपी ने संज्ञान लेते हुए कार्यबाही का आश्वासन दिया है।

-कार्यवाही दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरों में कैद-

त्रिवेणीगंज थाना क्षेत्र के एनएच 327 पर कोशी कॉलोनी चौक (Koshi Colony Chowk) स्थित प्रताप मेडिकल के मालिक गोपेश कुमार पर शनिवार की देर रात अज्ञात अपराधी ने गोलीबारी की। पीड़ित दुकानदार ने घटना की सूचना थानेदार सुधाकर कुमार के मोबाइल (mobile) पर दी। कुछ देर में गस्ती दल पहुंच कर जख्मी दवा दुकानदार को जीप में बैठाकर अस्पताल ले गई ।जहां प्रार्थमिक उपचार के बाद पुलिस पीड़ित को थाने में ले आई। थानेदार ने दवा दुकानदार गोपेश को गाली- गलौज करते हुए लप्पड़- थप्पड़ देते शराब (alcohol) पी हंगामा करने की बात कह हाजत में बंद कर दिया।बाद में परिजन के अनुनय विनय पर छोड़ने के एवज में 25 हजार रुपये की मांग की। परिजनों द्वारा तत्काल रुपये नहीं होने पर वाहन चालक रवींद्र साह दवा दुकानदार को पुलिस जीप से लेकर चार बजे उनके दुकान पर जाकर दुकान खुला 15 हजार रुपये लिए और 10 हजार सुबह पहुंचाने को कहा। यह सारी कार्यवाहीदुकान में लगे सीसीटीवी कैमरों (Cctv cameras) में कैद हो गई।

विवाद से चोली दामन का सम्बंध है वाहन चालक का-

थानेदार के खासमखास भाड़े पर अपना वाहन चलाने वाले मालिक सह ड्राइवर (Driver) रवीन्द्र साह का विवाद से पुराना नाता है। निवर्तमान एसपी मृत्युंजय कुमार चौधरी ने विभिन्न आरोप के मद्देनजर रवीन्द्र साह को हटा दिया था।कुछ दिन तो ठीक रहा लेकिन श्री चौधरी के ट्रांसफर होते ही थानेदार पुनः रवींद्र को न सिर्फ वापस ले आये ,बल्कि सर्बोसर्वा बना दिया।

डीजीपी ने दिया कार्यवाही का भरोसा-

पुलिस हिरासत से घुस देकर मुक्त होने के बाद पीड़ित दवा दुख गोपेश कुमार ने घटना की लिखित शिकायत सीसीटीवी फुटेज सहित डीजीपी से की है। डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कड़ी कार्यवाही का आश्वासन दिया है।

रिपोर्ट : प्रशांत कुमार