Tue. May 11th, 2021

Real4news

Latest and Breaking News in Hindi, हिन्दी समाचार, न्यूज़ इन हिंदी – Real4news.com

आरा : किसान कांग्रेस की प्रदेश उपाध्यक्ष रेणु सिंह ने तरारी की जनता का जाना हाल,आज की स्थिति के लिए सरकार को ठहराया जिम्मेदार

1 min read

आरा : (Saw)ऑल इंडिया कांग्रेस (All India Congress) की प्रदेश अध्यक्ष एवम किसान (Farmer) कांग्रेस की प्रदेश उपाध्यक्ष श्रीमती रेणु सिंह जी पिछले 3 दिनों से लगातार तरारी विधानसभा में घूमकर वहां के हर एक गरीब गुरबों का हालचाल ले रही हैं। रेणु सिंह जी का कहना है कि बिहार के गरीब लोग आज जिस भी हालात से गुजर रहे हैं उसके जिम्मेदार पूर्णतः बिहार की सरकार है। आज अगर बिहार की सरकार बिहार में उद्योग धंधे लगाने की कोशिश की होती तो आज बिहारी मजदूर यूं सड़क पर अपनी दम न तोड़ रहे होते। ये एक बहुत बड़ा सवाल है बिहार वासियों से की क्या बिहार सिर्फ मजदूरों का उत्पादन करने के लिए बना है।क्या बिहारियों को कोई इज्जतदार पढ़ें लिखें व्यक्ति की तरह नौकरी करने का हक नही। रेणु जी ने यह भी बताया कि नोनार, सुखरौली, कचनथ एवम पंचरुखिया इत्यादि जगहों से जनता के द्वारा ये भी शिकायत मिली कि अधिकतर जगहों पर से कोरनटाइन सेंटर (Corentine center) को बंद कर दिया गया है।वहां भारी संख्या में प्रवासी मजदूर आ तो रहे हैं पर उनको सीधे घर भेज दिया जा रहा है ऐसे में सरकार ये अंदाजा भी नहीं लगा सकती कि गांव वालों की जिंदगी कितनी जोखिम में पड़ सकती है। गांव वालों का कहना है कि कोरनटाइन सेंटर का खर्चा सरकार नही दे पा रही है वीडियो साहब को अपने पास से उठाना पड़ रहा है और ऐसे में वीडियो (video) साहब भी निश्चित नही है कि उनके द्वारा किये गए खर्चों का भुगतान का वाउचर कब तक बिहार सरकार पास करेगी और करेगी भी या नही,इसीलिए अब और पैसे मैं अपने पास से नहीं लगाऊंगा। ये है अपना बिहार सरकार और इनकी इतिहास जहां ज्यादतर काम कागजों पर ही होते हैं। रेणु जी ने यह भी कहा कि अगर बिहार के गांवो तक बीमारी पहुंची तो फिर पूरा बिहार बर्बाद हो जाएगा। बिहार बोर्ड में उतीर्ण हुए बच्चों से मिलकर उनको रेणु जी ने शुभकामनाएं दी एवम उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना भी की। साथ मे राज्य शिक्षक पात्रता परीक्षार्थियों से भी मुलाकात की। परीक्षार्थियों के कहना है कि उन्हें 6 सालों तक इस परीक्षा का इंतजार करना पड़ा और अंततः जब ये परीक्षा हुआ और ठीक रिजल्ट आने के समय इस परीक्षा को रद्द कर दिए जाने से उनका पूरा भविष्य अंधकारमय हो गया है आखिर बिहार के युवा नौकरी की तलाश में कब तक भटकेंगे।

रिपोर्ट : राजू राज